Tag: love sms

10 Best Love sms in Hindi Language | हमें दिल का क्या करना जब हम तेरी सांसो में है

हमें ख्वाबो का क्या करना जब हम तेरी आँखों में है
हमें दिल का क्या करना जब हम तेरी सांसो में है
हमें सुरों का क्या करना जब सरगम तेरी बातो में है
हमें दुनिया का क्या करना जब हम तेरी धड़कन में है 
कौन कहता है ये मेरे दोस्त तुमसे हमारी जुदाई होगी,
ये खबर भी हमारे अपने किसी अज़ीज़ ने ही उड़ाई होगी ,
शान से रहेंगे हम आप के दिल, धडकनों और रूह में ,
प्यार ने न सही हमसे नफ़रत ने तो दिल में जगह बनाई होगी
हम तुमसे मोहब्बत करने लगे, दिल और जां निसार करने लगे
इश्क के दरिया में सनम प्यार के टूटे हुए साज़ फिर सजने लगे
प्यार, दीदार बढ़ता गया, मोहब्बत के हर फूल खिलने लगे
बीच राह में कहीं छोड़ न दो तुम साथ, इस ख़यालात से हम डरने लगे 
समय नहीं लगता है साथी दिल को दिल तक आने में
लकिन सदियाँ लग जाती है रिश्ता एक भुलाने में
चाहे तुम सबसे आगे हो मेरा नामो निशां मिटने में
सबको ही जल्दी थी अपनी अपनी मंजिल पाने में 
जब भी किसी ने प्यार से पुकारा है, दिल अपना और भी घबराया है
मुद्दत हो गई है हमे उनसे मिले, ये राज हमने नज़रों से चुराया है
उनसे मिलन के इंतज़ार ने प्यार की तड़प को कुछ इस बढाया है
हमारी आँखों में सिर्फ उनका ही अक्स उभर आया है 
मेरे प्यार को कैसे भूल पाओगे तुम, तुम्हारी रूह पे लिखा मेरा ही नाम है
मेरे स्पर्श को भूल पाना मुमकिन नहीं, रोम रोम में बसी मेरी पहचान है
हर गुजरती रात की तन्हाई में, तुम्हारी जिंदगी में बस एक मेरा ही नाम है
मेरे दीवानगी की इन्तहा हो तुम, मुझसे ही तुम्हारी मोहब्बत की पहचान है
:: best love sms in hindi language ::
हमसे हमारी दोस्ती के सारे एहसास ले लो
दिल में मचलते प्यार के सारे जज़्बात ले लो,
नहीं छोड़ेंगे तूफ़ान में भी हम साथ तुम्हारा,
इस दोस्ती के चाहे कितने इम्तिहान ले लो 
प्यार तो मचलता रहा, अरमान उमड़ते रहे धीरे धीरे,
तेरी जुदाई में भी मेरी धड़कन मगर चलती रही धीरे धीरे ....
रात की तन्हाई जगाती है मिलन की कसक धीरे धीरे ,
तेरे बगैर चांदनी भी मुझे तडपाने लगी है मगर धीरे धीरे ...
इक बार ज़रा मुस्कुराकर कह दो मुझे तुम दीवाना,
मीठी-मीठी बातें करके कहाँ सीखा है दिल का लुभाना
करो न ग़ुरूर जाने जिगर अपने हुस्नो शबाब पर इतना
वक़्त के दरिया में बह जाती है रूप, लावण्य और यौवना 
इस कदर तेरे इश्क में मशहूर हुए हम, इक तड़प सी रही बस मजबूर हुए हम,
चाहत के इस बाज़ार में दो पल ही सही, तेरी अदाओं पर मगरूर हुए हम,
वो मेरी चाहत थी , थी पल भर की नजदीकियां, फिर तेरी जिंदगी से दूर हुए हम,
तेरी आँखों के आईने में अक्स मेरा था, इक ठोकर लगी और चूर चूर हुए हम