Category Archives: hindi kavita

short hindi poems on life | हक़ीकत तो ये है, खो गया है मेरा असली चेहरा

मेरे चेहरे पर आज, एक और चेहरा
मैं देखता हूँ ,हर तरफ चेहरे पर एक और चेहरा
जब कभी लेकर चला, मैं अपना चेहरा
दुनिया को नही भाया मेरा, असली चेहरा

मैने भी औड लिया चेहरा, बिल्कुल वैसा
तुम्हे पसंद है, ये है अब वही चेहरा
असल में तो अब मेरे पास हैं, कई चेहरे
वक़्त के हिसाब से में बदल लेता हूँ, चेहरा

अब कहीं भी नहीं ले जाता हूँ, असली चेहरा
जब तक था, मेरे पास एक ही चेहरा
तुम्हे भी पसंद नहीं था, मेरा असली चेहरा
हक़ीकत तो ये है, खो गया है मेरा असली चेहरा

Tags: , , , ,

hindi poetry | hindi kavita

ये चारों तरफ बेन्तेहाँ भीड़
फिर भी इस बड़े से शहर में
कोई ही होता है अपना,
वरना तो यहाँ सपना भी
कभी नहीं होता है, अपना
यहाँ आसमाँ से बरसता है, धन
अगर तू लपक सके तो लपक
यही है तेरे रिश्तों नातो का
इस शहर का मजबूत जोड़
भागते हुए लोग पहुँचते कहीं नहीं
फिर भी निरंतर भागते और भागते
बस यहाँ भाग-दौड़ का निरंतर ओलंपिक
ये शहर है, हाँ ये मुंबई है ,,,,,,,,,,,

Tags: , , , , , , , ,