A Very Good Relationship Needs Just Two Things A "Little Time" To Be Spent together And A "True Care" To Be Shown Always...

Heart gets Love; Brain gets Knowledge; Hands get Presents; Lips get Kisses; But only sweet friends like you get my sms/messages.

short hindi poems on bachpan

Written by rsrajiv25. Posted in hindi kavita

short hindi poems on bachpan

Barish ke cham-2 bundo se,
kuch hos me mai ab aaya hu,
Bit gaye ab din bachpan ke,
ye saugat he kyo mai paya hu,
Wo din kitne rangile the,
jb sapne na koi sajile the,
Dunia me kitni raunak the,
kapde jb sbke gile the,
Ye kyo madhosh jawani aai hai,
Beran tarange lai hai,
Gujar jati hai barsat bhe ab yu he,
ek bar na khusia lai hai,To,
Bachpan ke wo din achhe the,
jb mauj me hum sb bachhe the.

Incoming search terms:

  • Hindi Poem on Bachpan
  • childhood related poem hindi
  • Small Poem on childhood in hindi
  • funny poems based on \bachpan\
  • poem on bachpan in hindi for kids
  • poems on bachpan in hindi
  • poem releated to bachpan in hindi language
  • poem of bachpan
  • poem in hindi mera bachpan
  • nice easy hindi poem

corruption sms

Written by rsrajiv25. Posted in hindi kavita


फिर तू किस चक्कर में है
भाई यहाँ सब चलता है
यहाँ जुगाड़ बहुत सही लफ्ज है
हर कोई जुगाड़ से चल रहा है
रेल में सीट नहीं है, जुगाड़ है
सीट मिल जायेगी
नंबर कम आये जुगाड़ है
डिविजन बन ही जायेगी
शादी की तारीख नहीं है
पंडित जी जुगाड़ कर देंगे
तारीख निकल आएगी
सत्ता पर काबिज होना है
जुगाड़ लड़ाओ बिना बहुमत के
सरकार बन जायेगी

short hindi poems on life | हक़ीकत तो ये है, खो गया है मेरा असली चेहरा

Written by rsrajiv25. Posted in hindi kavita

मेरे चेहरे पर आज, एक और चेहरा
मैं देखता हूँ ,हर तरफ चेहरे पर एक और चेहरा
जब कभी लेकर चला, मैं अपना चेहरा
दुनिया को नही भाया मेरा, असली चेहरा

मैने भी औड लिया चेहरा, बिल्कुल वैसा
तुम्हे पसंद है, ये है अब वही चेहरा
असल में तो अब मेरे पास हैं, कई चेहरे
वक़्त के हिसाब से में बदल लेता हूँ, चेहरा

अब कहीं भी नहीं ले जाता हूँ, असली चेहरा
जब तक था, मेरे पास एक ही चेहरा
तुम्हे भी पसंद नहीं था, मेरा असली चेहरा
हक़ीकत तो ये है, खो गया है मेरा असली चेहरा

Incoming search terms:

  • hindi poems on life
  • hindi poem on life
  • short hindi poems
  • Hindi Poetry on Life
  • hindi kavita on life
  • poems on life in hindi language
  • Small Hindi Poem
  • small poems in hindi
  • kavita on life
  • hindi small poems

hindi poetry | hindi kavita

Written by rsrajiv25. Posted in hindi kavita

ये चारों तरफ बेन्तेहाँ भीड़
फिर भी इस बड़े से शहर में
कोई ही होता है अपना,
वरना तो यहाँ सपना भी
कभी नहीं होता है, अपना
यहाँ आसमाँ से बरसता है, धन
अगर तू लपक सके तो लपक
यही है तेरे रिश्तों नातो का
इस शहर का मजबूत जोड़
भागते हुए लोग पहुँचते कहीं नहीं
फिर भी निरंतर भागते और भागते
बस यहाँ भाग-दौड़ का निरंतर ओलंपिक
ये शहर है, हाँ ये मुंबई है ,,,,,,,,,,,

Incoming search terms:

  • ganesh poem in hindi